कुछ कहना है

23 06 2015
want to say

want to say

 

 

 

 

 

 

***************************************************************************

मेरा जिवन मैली चादर धोके देनी है

सत्य कहना और न कुछ बात सुनाउं मैं

 

दिल दुभाया, झुठ बोली,  बेईमानी की

किसलिए ये क्या बताउं बहाने बनाउं मैं

 

स्वर्थमें डुबी मानवकी कमजोरीयांभी थी

आंख खुली देर न करनी जान गई हुं मैं

 

पंडिताईके बोल मैं बोलुं आम इन्सान हुं

माफ करना उर न धरना हाथ जोडुं मैं

 

आजसे ये जिवन मेरा रूख बदलता है

बाहरसे कोई फर्क नही अंतर जानुं मैं

 

 

 


Actions

Information

One response

23 06 2015
chandravadan

आजसे ये जिवन मेरा रूख बदलता है

बाहरसे कोई फर्क नही अंतर जानुं मैं
Like that !
Chandravadan
http://www.chandrapukar.wordpress.com
See you for the NEW POST @ Chandrapukar !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s




%d bloggers like this: