साथ

17 07 2015
together

together

 

 

 

 

 

 

 

 

वो आते है याद हर सांसो के साथ

अन उपस्थितिमेंभी प्यार है साथ

***************************

वैसे कोई नही जाता  मरने वालेके साथ

मगर छू्टनेवालेका कहां छूटता है साथ

**********************************

अरे यार क्या कोई निभाए साथ ?

किस्मत कहां रहने देती है साथ !

***************************

साथ जिए ,साथ घुमे, अब कहां है वो साथ?

क्या हुआ छूटा साथ दिल से हुं आपके साथ

********************************

हाथ क्यों थामा जब निभाना नही था साथ

बिना हाथ थामे बस चलना हर कदम साथ

*********************************

साथी तेरा थामा हाथ मंझिल पे चली साथ

अब तू नही फिरभी चल रही यादों के साथ

*********************************

क्यों कोई  जाए खाविंद की  कब्र पर  आशिकके  साथ

तीन हाथ जगह ढुंढने आई फ्युनरल होम वाले के साथ

*************************************

 

Advertisements

ક્રિયાઓ

Information

6 responses

17 07 2015
chandravadan

साथी तेरा थामा हाथ मंझिल पे चली साथ

अब तू नही फिरभी चल रही यादों के साथ…..Gamyu
Nice Post
Chandra Mistry

17 07 2015
pravina Avinash kadakia

બસ આ ગમ્યું કહ્યું

મને પણ ખૂબ ગમ્યું

આભાર

17 07 2015
Smita

Very nice, Pravina……Smita

18 07 2015
Raksha Patel

Love to read this kind of post! साथी तेरा थामा हाथ मंझिल पे चली साथ

अब तू नही फिरभी चल रही यादों के साथl

20 07 2015
Vinod R. Patel

વિરહી પત્નીના મનના ભાવો આભાદ ઝીલાયા છે આપની આ હૃદયીસ્પર્શી કાવ્ય રચનામાં .
આ કાવ્ય વિરહી પતિને માટે પણ એટલું જ લાગુ પડે છે.

20 07 2015
P.K.Davda

वैसे कोई नही जाता मरने वालेके साथ

मगर छू्टनेवालेका कहां छूटता है साथ

તદ્દન સાચી વાત છે.

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s




%d bloggers like this: