कैसे ?

24 10 2015

 

how

 

 

 

 

 

 

****************************************************************************************************

ए मन तुझे कैसे समजाउं

बदनमें तेरा ठिकाना नही है

एक जगह तू टिकता नही है

यहां अपना पराया कोई नही है

संसारमें कहीं  लगता नही है

यहां कोई तुझे जानता नही है

तू धिरज धर, सुनता नही है

अकेलेमें तू संभलता नही है

भीडमें तेरा अतापता नही है

प्यारमें पागल होता नही है

चांद देख मुस्कुराता नही है

भक्तिमें तू डूबता नही है

प्रभु शरणमें रहता नही है

मृत्युसे हुई मुलाकात नही है

*******************

अपना पराया हो सकता है

खून पानी हो सकता है

ईंसान हेवान हो सकता है

औरत बेशर्म हो सकती है

चांद  न चमके हो सकता है

सूरज न निकले हो सकता है

जीना निरर्थक हो सकता है

मृत्यु कैसे रूक सकता है ?


Actions

Information

4 responses

24 10 2015
Indira Adhia

Good. Enjoyed reading the article.

Indira Adhia

24 10 2015
મૌલિક રામી "વિચાર"

Very nice!!! अपना पराया हो सकता है

खून पानी हो सकता है

These lines are amazing..

24 10 2015
pravina Avinash kadakia

Your “Sight” is amazing !

Your “Love” is amazing !

your “Thinking” is amazing !

Your “opinion” is amazing !

“Maulik” name is “amazing”!

24 10 2015
મૌલિક રામી "વિચાર"

અામજ સ્નેહ વરસાવતા રહો.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s




%d bloggers like this: